31 एसियाई ज्योतिष सम्मेलन का आगाज ज्योतिष शिक्षण संस्थान जमशेदपुर के सभी विद्यार्थियों द्वारा मंत्रोच्चार के साथ हुआ उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि के रूप में बिहार सरकार के पूर्व कला एवं संस्कृति मंत्री वर्तमान विधायक सहरसा के डॉ आलोक रंजन उपस्थित हुए कार्यक्रम के अवसर पर देश बिदेश के साथ साथ बड़ी संख्या मे उपस्थित स्थानीय ज्योर्ति र्विदों को संबोधित करते हुए

imagename

उन्होंने इस कार्यक्रम के संचालक प्रो एस के शास्त्री के ज्योतिष शस्त्र के क्षेत्र में योगदान पर प्रकाश डालते हुए कहा की जीवन का महत्वपूर्ण निर्णयों को लेने और उसके सफल होने के लिए ज्योर्तिविदों का सलाह काफी लाभप्रद होता है साथ ही उन्होंने आहवान किए की जिस प्रकार डॉ एवं मरीज की कुंडलियों के मिलन उपरांत इलाज सफल होता देखा गया है उसी प्रकार से यदि सभी संस्थाएं अपने भर्ती प्रक्रियाओं में भी यदि अभ्यर्थी की कुण्डली से संस्था का तालमेल बैठाकर ज्योतिष सामंजस्य अनुरूप परामर्श देंगे तो दोनों यथा अभ्यर्थी एवं संस्था को विशेष लाभ मिलेगा। इसी तरह यदि स्कूल कालेज जैसे संस्थान भी बिद्यार्थियों के लिए ज्योतिष परामर्श का लाभ उपलब्ध कराएंगे तो उनको उनके अकादमिक यात्रा के दौरान होने वाले चिंता अवसाद से मुक्ति मिलेगी साथ ही आगे उन्होंने बताया की आध्यात्मिक स्वरुप में ज्योतिष को मन, शरीर, और आत्मा के त्रितीयक संबंध को समझने का एक सटीक माध्यम माना जाता है

जिससे व्यक्ति अपने आत्मा की ऊँचाइयों की ओर बढ़ सकता है। वर्तमान परिदृश्य में ज्योतिष शास्त्र की व्यापकता के वाबजूद इसे वैज्ञानिक समुदाय में स्वीकृति सहज रूप से नहीं है बल्कि इसे आध्यात्मिक दृष्टिकोण से लेकर ही ग्रहों के प्रभाव का सामर्थ्य को पूर्ण रूप से मानने वाले लोग हैं। लेकिन यह भी सत्य है की जहां विज्ञान समाप्त होता है वहाँ से विज्ञान शुरू होता है और ज्योतिष विज्ञान और अध्यात्म दोनों का समन्वय है अतः यह शास्त्र काफी महत्वपूर्ण हो जाता है और इसी वजह से शास्त्र से जुड़े आप ज्योतिर्विदों का पुरातन से ही समाज मे अलग सम्मानजनक स्थान है ।
उद्घाटन सत्र मे मुख्य अतिथि के आलवे माननीय अतिथि के रूप में नेपाल से आए आचार्य लक्षमन पती, दिल्ली से ये डॉ भारत भूषण भारद्वाज एवं स्थानीय श्री मुरलीधर केडिया, डॉ तपन राय भी मौजूद थे जिन्होंने अपने ज्योतिष अनुभवों को साझा किए ।
उद्घाटन उपरांत केसर के संस्थापक प्रो एस के शास्त्री द्वारा हिन्दी एवं बांग्ला में रचित पुस्तक “हस्तरेखा संजीवनी” का विमोचन किया गया
आज के उद्घाटन स्तर उपरांत विदेशो से आए ज्योतिषियों को सम्मानित किया गया इसवर्ष अबतक बांग्लादेश, नेपाल से कई ज्योतिसिगन पहुँच चुके है आने वाले दो दिनों में और भी बिदेशों यथा श्रीलंका आस्ट्रेलिया, कनाडा इत्यादे से आने का संभावना है ।
दूसरे सत्र में आए हुए ज्योतिषियों ने हस्तरेखा मे अपने ज्ञान एवं शोध को साझा किए ।
अंत मे सकड़ों स्थानीय जनता ने 5 बजे से रात्री 10 बजे तक होने वाले निशुल्क ज्योतिष परामर्श का लाभ उठाने हेतु पंजीयन करवाया । निशुल्क ज्योतिष परामर्श कल दिनांक 20 जनवरी को भी 5 बजे संध्या से किया जाएगा जिसमे आने वाले जातक लाभ उठा सकते हैं ।


Discover more from Yash24Khabar

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from Yash24Khabar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading