नई दिल्ली/जमशेदपुर, 9 फरवरी, 2024: टाटा स्टील फाउंडेशन द्वारा समर्थित ग्रीन स्कूल पहल को 7 से 9 फरवरी 2024 तक नई दिल्ली में द एनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (टेरी) द्वारा आयोजित वर्ल्ड सस्टेनेबिलिटी डेवलपमेंट समिट (डब्ल्यूएसडीएस) में प्रस्तुत किया गया था। डब्ल्यूएसडीएस के 23वें संस्करण का विषय, सतत विकास और जलवायु न्याय के लिए नेतृत्व, जलवायु परिवर्तन से निपटने और पर्यावरण के प्रति संवेदनशील रवैया विकसित करने के लिए नवीन विचारों वाले युवा छात्रों को संगठित करने के टाटा स्टील फाउंडेशन के प्रयासों से जुड़ा है।

imagename

सत्र की शुरुआत ग्रीन स्कूल पहल के सफर और बच्चों, शिक्षकों एवं आस-पास के समुदायों पर इसके प्रभाव पर परिचय के साथ हुई। जोडा, डीएवी अलकुसा, झरिया और स्टीवर्ड स्कूल, सुकिंदा (आवासीय ब्रिज कोर्स) के छात्रों का एक पैनल ग्रीन स्कूल पहल पर सत्र का हिस्सा था। ये छात्र शुरुआत से ही ग्रीन स्कूल से जुड़े हुए हैं और अब अपनी क्षमताओं में बदलाव लाने में सक्षम बन गए हैं, दूसरों को बदलाव के लिए प्रेरित कर रहे हैं, ताकि सस्टेनेबल अभ्यासों को विकसित कर सकें। पहलों के बारे में बात करते हुए, उन्होंने जागरूकता अभियानों पर भी जोर दिया जो आसपास रहने वाले समुदाय को प्रेरित करने के लिए शुरू किए गए थे।

दूसरे पैनल में वन गुज्जर जनजाति के तौकीर आलम ने हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र में रहने वाले वन गुज्जर जनजाति के जीवन में पक्षियों के महत्व के बारे में बात की। चर्चा में हरित और स्वस्थ पर्यावरण को बनाए रखने के लिए पारंपरिक अभ्यासों और ज्ञान को बनाए रखने के महत्व पर प्रकाश डाला गया। तौकीर आलम, एक प्रतिष्ठित संवाद फेलो हैं, जो आदिवासी कला, संस्कृति, भाषा और ज्ञान को पुनर्स्थापित और संरक्षित करने के लिए टाटा स्टील फाउंडेशन द्वारा सक्षम फेलोशिप कार्यक्रम का हिस्सा हैं।

शिखर सम्मेलन के अंतिम सत्र के दौरान, टाटा स्टील फाउंडेशन के सीईओ, सौरव रॉय ने कहा कि, “हम अक्सर ग्रह की सस्टेनेबिलिटी पर विचार करने की तुलना में व्यक्तिगत सस्टेनेबिलिटी पर ध्यान केंद्रित करते हैं और हमें बड़े पैमाने पर एक आदर्श बदलाव पर विचार करने की आवश्यकता है। ग्रीन स्कूल पहल वर्तमान समय में जागरूकता के माध्यम से इस ग्रह के भावी निवासियों में सस्टेनेबिलिटी की भावना पैदा करने के फाउंडेशन के प्रयासों में से एक है। राष्ट्र का युवा उत्साह से भरा हुआ है और इस ऊर्जा को प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए पर्याप्त कौशल के प्रावधान की आवश्यकता है। हम झारखंड और ओडिशा भर में युवाओं के बीच सस्टेनेबिलिटी की इस कहानी को आगे बढ़ाने में हमारे भागीदार बनने के लिए टेरी के आभारी हैं।

पूर्वी भारत के दूरदराज के इलाकों में काम करते हुए, ग्रीन स्कूल पहल का उद्देश्य बच्चों को सस्टेनेबल व्यवहार के प्रति सक्रिय बनाना और इस प्रकार कमजोर समुदायों के हितों की रक्षा में योगदान देना है, जो इसकी उत्पत्ति में सीमित भागीदारी के बावजूद, पर्यावरणीय प्रतिकूलताओं का खामियाजा भुगतते हैं। ग्रीन स्कूल 47 स्कूलों और उसके आसपास के लगभग 23,000 छात्रों, 371 शिक्षकों और 5000 समुदाय के सदस्यों तक अपनी पहुंच बना चुका है।
डब्लूएसडीएस मंच राजनीतिक नेताओं, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय संस्थानों के निर्णय निर्माताओं, बिज़नेस लीडर्स, राजनयिक निगमों के उच्च-स्तरीय पदाधिकारी, वैज्ञानिक और शोधकर्ता, मीडिया कर्मी और नागरिक समाज के सदस्यों को एक आम मंच पर लाता है; ताकि वे सस्टेनेबल अभ्यासों पर विचार-विमर्श कर सकें। दो दिवसीय कार्यक्रम में कई सत्र शामिल थे, जिनका संचालन विभिन्न क्षेत्रों के विषय-विशेषज्ञों द्वारा किया गया।


Discover more from Yash24Khabar

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

Discover more from Yash24Khabar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading