जमशेदपुर,आर वी एस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी, जमशेदपुर में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉनफरेन्स का आयोजन किया जा रहा है। यह कॉनफरेन्स IEEE, USA के संयुक्त सहयोग से 15 एवं 16 अप्रैल 2024 को कॉलेज के सभागार में आयोजित है। इस कॉनफरेन्स के संदर्भ में शहर के होटल जीवा में 14 अप्रैल को दिन के एक बजे एक प्रेस मीट का आयोजन किया गया है।

imagename

इस प्रेस मीट में आर वी एस एजुकेशनल ट्रष्ट के चेयरमैन श्री बिन्दा सिंह, सचिव श्री भरत सिंह, कोषाध्यक्ष श्री शत्रुघ्न सिंह, प्राचार्य डॉ राजेश कुमार तिवारी आदि प्रेस प्रतिनिधियों से बात कर रहे थे।

कॉलेज के प्राचार्य सह कॉनफरेन्स चेयर प्रो डॉ राजेश कुमार तिवारी ने इस कॉनफरेन्स के महत्व पर विस्तार से चर्चा किया। उन्होंने बताया कि विकसित भारत की बात हम सभी लोग करते हैं। हमारी सरकार भी ‘कल का भारत, विकसित भारत’ की बात करते हैं। यहाँ यह निश्चित रूप से विचारनीय है कि आखिर भारत एक विकसित राष्ट्र सही अर्थों में कैसे बन सकता है। इमानदारी से इस पर अगर विचार किया जाय हो हमारा ध्यान सबसे पहले चल रहे शोध एवं उसमें नवीनता की तरफ जाना चाहिए। आज अमेरिका, ब्रिटेन, फॉस, जर्मनी, जापान, चीन आदि जैसे देश अपने शोध प्रबंधों पर अधिक ध्यान दे रहे हैं। भारत को भी अगर सही माइने में इस कतार में खड़ा होना है तो उसे परिष्कृत शोध पर गंभीरता से काम करना होगा और भारत कर रहा है। आज भारत की पहचान सम्पुर्ण विश्व में एक तेज गति से विकास कर रहे देश की है। आज Artificial Intelligence, Cloud Computing, Internet of Things, Quantum Computing. Data Science, Renewable Energy आदि क्षेत्रों में गहन शोध की जरूरत है। इन्ही महत्वपूर्ण विषयों को ध्यान में रखते हुए IEEE, California, USA के साथ संयूक्त सहयोग से आर वी एस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी इस विषय पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉनफरेन्स का आयोजन कर रहा है। यहाँ यह बताना सामयिक होगा कि झारखण्ड प्रदेश में IIT (ISM) Dhanbad एवं RVS College of Engineering and Technology, Jamshedpur ही IEEE International Conference का आयोजन करता आ रहा है।

ज्ञात हो कि, पूर्व में भी आर वी एस कॉलेज IEEE के संयुक्त तत्वधान में इस तरह के अंतर्राष्ट्रीय कॉनफरेन्स का आयोजन करता रहा है। IEEE International Conference का आयोजन कर

यह कॉलेज जमशेदपुर तथा झारखण्ड के विद्याथियों के लिए एक ऐसा Plateform देता है जो पहले विद्याथियों को इसके लिए बाहर जाना पड़ता था। यह बताते हुए हर्ष होता है कि अंतिम रूप से 120 Papers में झारखण्ड के लगभग 12 से 15 Papers हैं। आने वाले समय में यह विकसित झारखण्ड बनने में मदद करेगा।

इस कॉनफरेन्स में Paper Presentation के लिए देश-विदेश से 600 से अधिक प्रतिभागियों ने पेपर जमा किया है। तीन बार Screening के बाद 120 उत्कृष्ट पेपर का चयन कॉनफरेन्स में प्रस्तुति के लिए किया गया है। इस अति महत्वपूर्ण दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉनफरेन्स के मुख्य अतिथि Jharkhand University of Technology, Ranchi के कुलपति प्रो डॉ डी के सिंह होंगे। दो दिन तक चलने वाले इस कॉनफरेन्स में आठ सत्र का प्रावधान किया गया है। हर सत्र के लिए एक Session Chair होंगे। Key Note Speaker के रूप में IIT (ISM) Dhanbad के प्रोफेसर डॉ जी साहू, Daffodil International University, Bangladesh के उपकुलपति

प्रोफेसर डॉ एस एम महबूब उल हक मजूमदार एवं मलेशिया से आ रहे प्रो डॉ अबु वकर अब्दुल हामिद हिस्सा ले रहे हैं। कॉनफरेन्स समापन के पश्चात सभी प्रस्तुत पेपर का प्रकाशन IEEE Explore में प्रकाशित किया जायगा।

यह कॉनफरेन्स न केवल इस कॉलेज के लिए, अपितु सम्पूर्ण देश में शोध प्रबंधन एवं आकादमिक

विकास के लिए मील का पत्थर सावित होगा।


Discover more from Yash24Khabar

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from Yash24Khabar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading